अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

 महिलाएं अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर आगे बढ़ रही हैं – मंत्री भेड़िया

महिला बाल विकास मंत्री भेड़िया ने किया सह जिला जागृति शिविर का शुभारंभ

45 महिलाओं को राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना के तहत प्रदाय किए 9 लाख रुपए के चेक

उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं का भी किया गया सम्मान

महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती भेड़िया ने किया सह जिला जागृति शिविर का शुभारंभ

महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री अनिला भेड़िया आज महासमुंद जिले के शंकराचार्य सांस्कृतिक भवन में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस सह जिला जागृति शिविर में शामिल हुईं। उन्होंने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने तीन दिव्यांग महिलाओं सुश्री सरोज यादव, लता यादव और पद्मावती सोनमणी को मोटराईज्ड ट्रायसायकल (बैटरी चलित) प्रदाय की। मंत्री के हाथों  मोटराइज्ड ट्राई साइकिल पाकर खुश हुई और उनका आभार जताया। यह  मोटराइज्ड ट्राई साइकिल  समाज कल्याण विभाग द्वारा प्रदान की गई है। गौरतलब है कि महिला बाल विकास एवं समाज कल्याण के संयुक्त तत्वाधान में कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ फॉर्चून फाउंडेशन बागबाहरा के नेत्रहीन बच्चों द्वारा राजकीय गीत अरपा पैरी गायन के साथ शुरू हुआ। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की बधाई देते हुए कहा प्रदेश की महिलाएं अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन भी कर रही है और आगे भी बढ़ रही है। महिलाएं खेती किसानी से लेकर आसमानी रास्तों में (हवाई जहाज) उड़ाकर देश की सेवा कर रही है। आज की महिलाएं हर क्षेत्र में कामयाब हो रही है। राज्य सरकार महिलाओं के लिए हितग्राही मूलक योजनाएं संचालित कर रही है। हाल ही में राज्य सरकार द्वारा श्रमिक परिवार की बेटियों की शिक्षा, रोजगार, स्वरोजगार तथा विवाह में सहायता के लिए मुख्यमंत्री नोनी  सशक्तिकरण  योजना संचालित की है। इस योजना के माध्यम से पात्र पंजीकृत हितग्राहियों की प्रथम दो पुत्रियों की बैंक खातें में एकमुश्त राशि का भुगतान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ कौशल्या मातृत्व योजना का भी शुभारंभ किया गया है। इस योजना के तहत राज्य में जन्म लेने वाली बालिकाओं की अच्छे भविष्य के लिए व उनके माता-पिता को प्रोत्साहित करने के लिए 5 हजार रुपए की राशि दी जाने की व्यवस्था है।
मंत्री श्रीमती भेड़िया ने कहा कि राज्य के प्रत्येक जिले में पीड़ित महिलाओं की सुरक्षा के लिए सखी वन स्टॉप संेटर भी कुशलता पूर्वक संचालित किए जा रहे हैं। इन संेटरों के माध्यम से एक ही छत के नीचे महिलाओं को निःशुल्क विधिक चिकित्सा एवं परामर्श और आश्रय दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में हर क्षेत्र की महिलाओं ने बहुत ही अच्छा काम किया है, ये सब बधाई के पात्र है। श्रीमती भेड़िया ने प्रदेश के महिलाओं ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी उपलब्धि दर्ज की है। प्रदेश की महिलाएं सशक्त और सामर्थ्य है। आगे भी उनसे उत्कृष्ट प्रदर्शन की उम्मीद है। उन्होंने उपस्थित महिलाओं से आव्हान किया कि राजधानी रायपुर के बीटीआई ग्राउण्ड शंकर नगर में तीन दिवसीय राज्य स्तरीय महिला मड़ई का आयोजन किया गया है। जहां राज्य की स्व सहायता समूह द्वारा तैयार उत्पादांे की प्रदर्शनी लगाई गई है और वे अपने सामग्रियों की बिक्री भी कर रहे है। आप भी इस महिला मड़ई में आकर आनंद उठाएं।
इस अवसर पर समाज कल्याण की ओर से राष्ट्रीय परिवार सहायता के तहत 20 महिलाओं को 20-20 हजार रुपए के कुल 4 लाख रुपए के चेक सौंपे गए। वहीं 25 महिला समूहों को महिला कोष ऋण में 20-20 हजार की कुल 5 लाख की राशि के चेक दिए गए। मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया द्वारा इस प्रकार दोनों योजना के तहत कुल 9 लाख रुपए की राशि के चेक वितरण किए। उत्कृष्ट कार्य करने वाली 10 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका एवं पर्यवेक्षक को भी प्रशस्ति पत्र दिए गए। कलेक्टर श्री निलेशकुमार क्षीरसागर ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और महिला अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की बधाई देते हुए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के बारे में बताया। इस अवसर पर संसदीय सचिव एवं विधायक विनोद चंद्राकर, जिला पंचायत अध्यक्ष  उषा पटेल, जनपद अध्यक्ष श्री यतेन्द्र साहू, राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती अनिता रावटे, संगठन पदाधिकारी रश्मि चंद्राकर, पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला सहित जनप्रतिनिधिगण, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और स्व सहायता समूह की महिलाएं उपस्थित थीं। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया।
कार्यक्रम को संसदीय सचिव एवं विधायक  विनोद चंद्राकर ने अपने संबोधन में कहा कि उन्होंने कहा कि नरवा, गरवा, घुरूवा अउ बाड़ी से ग्रामीण महिलाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार आया है। वे गौठानों में जैविक खाद सहित अन्य आर्थिक गतिविधियां संचालित कर रही है। इससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार देखने मिल रहा है। जिला पंचायत अध्यक्ष  उषा पटेल ने संबोधन करते हुए कहा कि नारी वर्तमान दौर नारी सशक्तिकरण का है। महिलाएं देश के निर्माण और उत्थान में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास  समीर पांडेय ने जिले में चल रही विभागीय गतिविधियों और उपलब्धियों के बारे में जानकारी प्रस्तुत की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.