सांप के खेती करके लाखों कमावत हे इहां के मनखे, हर घर म मिल जहि डोमी अऊ अजगर

अनाज, फल अऊ साग-भाजी के खेती के बारे म त आप मन बहुत सुने होहू, फेर आज हम आप मन ल बतावत हवन सांप के खेती के बारे म। हव जी, सुने म थोकन अजीब भले लागत होही फेर ये सही बात ये। हम बता देवन के, चीन के जिसिकियाओ नाम के गांव के सैकडों मनखे मन सांप के खेती करके लाखों रुपिया कमावत हें। जानकारी के मुताबिक जिसिकियाओ नाम के ए गांव म 30 लाख ले जादा जहरीला सांप पाले जाथे। इहां के मनखे सिरिफ सांप मन ल भर नइ पालंय भलुक इनंकर अलग-अलग प्रजाति मन के ब्रीडिंग घलोक कराथें। पूरा दुनिया म ये गांव के स्नेक फार्मिंग ह फेमस हे। इहां के मनखे किंग कोबरा, अजगर अऊ जहरीला वाइपर के खेती करथें। सांपों के खेती करइया फेंग यिन अऊ उंखर पत्नी यांग शियाओक्सिया ह बताथे के, शुरु म ओ मन ल ये सब करे म थोकुन डर लागत रहिस, फेर अब ओ मन ल एकर आदत हो गीस।



उमन बताइन के गांव के करीबन हर घर म ओ मन ल आसानी ले कोबरा, अजगर अऊ वाइपर के कई ठन प्रजाति मिल जाही। सांप मन के सेती दूसर गांव अऊ प्रांत के मनखे ऊंखर गांव ल सांप गांव घलोक कहिथें। दंपति ह बाताइस के, गांव के मनखे हर साल करीबन 3 मिलियन ले जादा सांप ल बेंचथें। कई मनखे ए मन ल स्किन अऊ लिवर के इलाज बर दवाइ बनाए बर खरीदथे। एन्‍हें, कुछ मनखे अलग-अलग पोषक तत्व मन ल बनाए म एकर उपयोग करथें। मुख्य रूप ले ये सांप दक्षिण कोरिया, अमेरिका, जापान अऊ यूरोप म बेंचे जाथे। उन्‍हें, चीन म मनखे मन सांप के मांस खाना पसंद तको करथें। चीन म हजारों साल ले मनखे मन सांप ले बने दवाइ खात आत हें। सांप के मांस खाए के अलावा इहां के मनखे रीढ ले जुडे परेशानी मन के समाधान बर सांप के शराब के सेवन करथें।



हालांकि ए खतरनाक खेती के कई ठन अऊ नुकसान घलोक हे। सांप के खेती करइया कई मनखे मन ल सांप ह अपन शिकार घलोक बनाये हे। एन्‍हें, कुछ मनखे अइसन घलोक हे जऊन सांप के काटे के बाद केवल एक इंजेक्शन अऊ एंटी-वेनम दवा ले ठीक घलोक हो गे हें।
छत्‍तीसगढ़ के सरगुजा इलाका म घलोक नाग लोक हवय, इहां कहूं चीन कस काम करे जाही त भारत ले घलव सांप के निर्यात से करोड़ो के लाभ इहां के मनखे ले सकत हें। राज्‍य सरकार ल ए बारे म सोंचना चाही अउ विश्‍वविद्यालय मन ल एकर बर उदीम करना चाही। एकर से उहां के आदिवासी मनखे मन के आर्थिक स्थिति म सुधार तको आही।



Related posts