गोठान मन म मिलही पशु मन बर डे-केयर के सुविधा, बेमेतरा म विकसित करे जात हे गोठान, कलेक्टर ह करिस जांच

बेमेतरा, सुराजी गांव योजना के तहत बेमेतरा जिला म पशु मन बर डे-केयर सुविधा के व्‍यवस्‍था करे खातिर चार माडल गोठान मन के निर्माण करे जात हे। दुर्ग संभाग के कमिश्नर श्री दिलीप वासनिकर अऊ कलेक्टर श्री महादेव कांवरे ह आज साजा विकासखण्ड के अंतर्गत ग्राम मौहाभाठा अउ तेदुंभाठा के दौरा करके गोठान निर्माण काम के अवलोकन करिन। ए गांव मन म गोठान निर्माण बर मनरेगा के तहत 19-19 लाख रूपिया स्वीकृत करे गये हे। हम आप ल बता देवन के जिला के सबो चार विकासखण्ड के अंतर्गत चार स्थान मन म आदर्श गौठान के निर्माण करे जात हे। कमिश्नर ह ए स्थान मन म बनाए जात आदर्श गौठान के प्रशंसा करिन। माडल गौठान के रूप म एमां नवागढ़ ब्लाक के नारायणपुर, बेमेतरा के बटार, साजा ब्लाक के मौहाभाठा, अउ बेरला के ग्राम सांकरा सामिल हे।



कमिश्नर ह अपन भ्रमण के बेरा प्रदेश सरकार के नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बाड़ी योजना के क्रियान्वयन के जायजा लीन। उमन गांव वाले मन ले आत्मीय चर्चा करिन अउ गोठान ले जुड़के रोजगार मूलक काम शूरू करे बर प्रेरित करिस। जिला के हर एक गांव मन म गोठान निर्माण कराये जाही उहां चारा, पानी के व्यवस्था रइही। गोठान म छइंहा के व्यवस्था, बोर खनन, सोलर पंप, पानी टंकी (टांका) नाडेब खाद (घुरूवा) फेन्सिंग, पानी निकासी बर नाली के निमार्ण कराये जाही। कमिश्नर ह ग्राम तेंदूभाठा म चारागाह बर आरक्षित जमीन के अवलोकन करिस। एखर खातिर करीबन 8.50 एकड़ घास जमीन चिन्हकित करे गए हे। उमन मौहाभाठा तीर छिपनिया नाला म स्टाप डेम-कॅम एनीकट के घलोक अवलोकन करिन। कलेक्टर महादेव कावरे ह किसान मन ल केचुंवा खाद तैयार करे बर वर्मी बेड देहे के निर्देश अधिकारी मन ल दीन। पहिली चरण म जिला के 66 गौठान निर्माण के काम हाथ म लेहे गए हे। एमा- बेमेतरा ब्लाक के 19 नवागढ़ के 15 साजा के 19 अउर बेरला के 13 गौठान सामिल हे।



जिला के कई गोठानों म मवेशियों बर जन सहयोग ले चारे बर पैरा के व्यवस्था घलोक कर ली गइस हे। एखर अलावा गोठान के आस-पास आए वाले बारिश सीजन म वृक्षारोपण के तैयारी घलोक हे। एखर लिए गड्ढे खोदे जा गे हे। गोठान के बाहिर से.पी.टी. कर दे गइस हे। जिला के सबो ग्राम पंचायतों म चारागाह बर घास जमीन के चिन्हांकन करे गीस जा चुके हे। कलेक्टर ह संबंधित विभाग के अधिकारी मन ल ए ग्रामों म चलत आन विकास काम मन ल निरधारित समयावधि म पूरा कराने के निर्देश घलोक दीन।




कलेक्टर ह बताइस कि गावों म गोठान ले जोड़कर रोजगार मूलक गतिविधियों के संचालन करे जाही। एखर काम म महिला समूह मन ल जोड़ा जा रहा हे ताकि एखर माध्यम ले ओ मन अपन अजीविका चला सके अऊ आर्थिक रूप ले स्वावलंबी बन सके। गोठान के गोबर गोमूत्र ले खाद तैयार कर ओ मन ओला आय के जरिया बना सके हे। एखर अलावा दुग्ध उत्पाद ले घलोक उंखर आमदनी बढ़ेगी। उमन बताइस कि गोठान के आस-पास बांस, फलदार अउर छायादार वृक्ष लगाए जाएगें। ये वाले घलोक ऊंखर रोजगार के साधन बन सके हे।

Related posts