बनेच दूघ चाही त बिसावव गीर गाय

गीर भारत के एक प्रसिद्ध दुग्ध पशु नस्ल ये। ये गुजरात राज्य के गिर वन क्षेत्र अऊ महाराष्ट्र अउ राजस्थान के तीर-तखार के जिला मन म पाये जाथे। ये गाय बने दूध देहे बर जाने जाथे। ए गाय के दूध म सोना के तत्व पाए जाथे जेखर से रोगप्रतिरोधक क्षमता के विकास होथे। गीर ह असल भारतीय गाय ये। ये गाय 12-15 साल जिन्‍दा रहिथे अऊ अपन पूरा जीवनकाल म 6-12 लईका पैदा कर सकथे।



ए गाय के शरीर के रंग सफेद, गहरा लाल या चॉकलेट भूरवा रंग के धब्बा के संग या कभू-कभू चमकदार लाल रंग म पाए जाथे। कान लम्बा होथे अऊ लटकत रहिथे। एखर सबले बड़का विशेषता ओकर उत्तल माथा हे जऊन एला तेज धूप ले बचाथे। ये मध्यम ले लेके बड़े आकार म पाये जाथे। मादा गीर के औसत वजन 385 किलोग्राम अउ ऊंचाई 130 सेंटीमीटर होथे जबकि नर गीर के औसतन वजन 545 किलोग्राम अउ ऊंचाई 135 सेंटीमीटर होथे। एकर शरीर के त्वचा अड़बड़ ढीला अऊ लचीला होथे। एकर सींग पीछू कोती मुड़े रहिथे।




ये गाय अपन जबर रोग प्रतिरोध क्षमता बर घलोक जाने जाथे। ये सरलग लईका देथे। पहली पइत 3 साल के उमर म लईका देथे। गीर गाय मन म थन बने सहिन विकसित होथे। ये गाय रोज 12 लीटर ले 50 लीटर तक दूध देथे। एखर दूध म 4.5 प्रतिशत वसा होथे। ये पशु अलग-अलग जलवायु बर मनमाफिक होथे अऊ गरम स्थान मन म घलोक आसानी ले रहि सकथे।


Related posts