अब गर्मी के मौसम म घलोक मिलही मशरूम

इफको किसान, केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, रहमानखेड़ा ह ग्रीष्म कालीन दूधिया मशरुम ल रेडी टू फ्रूट मशरूम बैग के माध्यम ले घर-घर उबजाए के उदीम शुरू करे हे। अब मनखे मन ल गर्मी के मौसम म घलोक आसानी ले मशरूम मुहैया कराये जाही। केंद्रीय उपोषण बागवानी संस्थान ह अब पूरा साल मशरूम के खेती ले रोजगार मिलै ये बात ल ध्यान म रखत संस्थान कोति ले बटन, ओयस्टर अउ दूधिया मशरूम के किस्म मन ल अपनाए के जोर देवत हे। मशरूम उत्पादन प्रणाली के अंतर्गत किसान बटन मशरूम ल दिसंबर ले फरवरी के बीच बेंचे जा सकत हे जबकि ओयस्टर ल अकटूबर ले अपरेल के पहिली पखवाड़ा के बीच।



दूधिया मशरूम के बिक्री अपरेल के दूसर पखवाड़ा ले बीच अकटूबर तक करे जा सकत हे। दूधिया अऊ आयस्टर मशरूम गेहूँ के भूसा म उबजाए जाथे। भूसा के उपचार गरम पानी या रसायन (कार्बेन्डाजिम अउर फॉर्मेलिन) ले करके 60-65 प्रतिशत नमी म बिजाई करथें। एला जागे म 20 ले 25 दिन के समय लागथे अउ उत्पादन 30 ले 35 दिन के बाद चालू हो जाथे जऊन अवइया 40 ले 45 दिन तक सरलग रहिथे।



Related posts