मुनगा के खेती करही मालामाल : चटकारा के संग समाचार

संतुलित आहार के पूर्ति अउ किसान मन के आमदनी दुगुना करे बर उद्यान विभाग डाहर ले संचालित अब्बढ़ अकन योजना मन के माध्यम ले रोपे जाए वाले फसल मन म मुनगा के स्थान विशेष हवय। मुनगा न केवल सब्जी भर बर उपयोगी हे भलकुन ये ह औषधी गुण ले घलो भरपूर हे। शरीर म आवश्यक खनिज मन के पूर्ति अउ बीमारी मन ल दूरिहा करे बर मुनगा अउ एकर भाजी के उपयोग करे जाथे। एला धियान म रखत जिला के किसान मन ल मुनगा के खेती बर प्रेरित करे गे…

Read More

चीन म बाढि़स भारतीय लाल मिरचा के मांग

इफको किसान, चीन म भारतीय लाल मिरचा ल अड़बड़ पसंद करे जात हे। पाछू कुछ दिन ले ट्रेड व्यापार समेत आन मुद्दा ल लेके भारत अऊ चीन के बीच म तनावपूर्ण संबंध हे फेर तभो ले इही बीच भारत अऊ किसान कारोबारी मन बर इड़बड़ बढि़या खबर आए हे। चीन म भारतीय लाल मिरचा के बिक्‍कट जादा आयात करे जात हे। एखर सेती कारोबारी मन ह ये आशंका जताये हें के भारत म लाल मिरचा के कीमत म बढोतरी हो सकत हे। कहूं अइसन होथे त किसान अऊ कारोबारी मन…

Read More

अब होही प्याज के बेहतर संरक्षण

प्याज ल सुरक्षित रखे बर कानपुर के चंद्रशेखर आजाद कृषि अउ प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) के उधान विभाग के वैज्ञानिक मन कोति ले प्याज संरक्षण के बेहतर मॉडल विकसित करे गए हे। ए प्याज संरक्षण के मॉडल म चार ले पांच महीना तक प्याज ल सुरक्षित रखे जा सकत हे। प्याज के दू प्रजाति “कल्याणपुर लाल गोल” अउ “एग्री फाउंड लाइटवेट” म एकर परीक्षण सफल पाए के बाद अब ये मॉडल किसान मन के खेत तक पहुंचाए के तैयारी हे। किसान मन ल जून या जुलाई म ए मॉडल बर प्रशिक्षण…

Read More

राजस्थान के लहसुन ल तमिलनाडु म मिलत हे बढि़या दाम

राजस्थान के बारन क्षेत्र के किसान लहसुन के फसल ल ग्रेडिंग अउ पैंकेजिंग करके तमिलनाडु भेजत हें। किसान मन ह ए ग्रेडिंग अउ पैंकेजिंग के शुरूआत करे हें, एखर ले किसान मन ल अच्छा मुनाफा होवत हे। लहसुन के फसल बर बारिश अऊ मौसम अनुकूल होए ले लहसुन के अच्छा उत्पादन देखे ल मिलत हे। ए पईत के लहसुन के स्वाद अऊ गुणवत्ता घलोक अच्छा हे। पैकिंग, ग्रेडिंग अऊ ट्रांसपोर्ट के खरचा निकाले के बाद किसान मन ल अकतहा लाभ मिलत हे। जिला के मंड़ी मन म लहसुन के औसत…

Read More

करेला बेंच के पोठावत हें किसान : करेला के खेती के साबर मंत्र

जमीन अउ जलवायु– करेला एक पौष्टिक साग (सब्जी) ये जेकर खेती भारत भर म साल भर करे जाथे। करेला के फल ह लोहा (आयरन), चूना (कैल्सियम) अउ विटामिन ले भरपूर होथे अऊ ये मां औषधीय गुण घलोक पाए जाथे। करेला के कच्चा फल के उपयोग कई प्रकार के साग (सब्जी) बनाए म अऊ अचार बनाए बर करे जाथे। करेला उपठष्ण कटिबंधी साग (सब्जी) ये अऊ एखर खेती बर गरम अऊ सुक्‍खा जलवायु के जरूरत होथे। थोकन ठंडक अऊ जादा वर्षा वाले क्षेत्र मन म घलोक एखर खेती करे जा सकत…

Read More

साग-भाजी बर हाईटेक तकनीक पॉली ग्रीन हाउस

पॉली ग्रीन हाउस या प्लास्टिक ग्रीन हाउस पॉलीथिन शीट के उपयोग करके बनाए जाथे ए सेती एला पॉली हाउस घलोक कहिथें। पॉली हाउस के फ्रेम जंगरहित लोहा के पाइप ले तैयार करे जाथे, जऊन ल 600 गैज के पॉलीथिन ले ढांक दे जाथे। एखर भीतर बिजली ले चलइया कूलर अउ हीटर लगाके तापमान नियंत्रक उपकरण ले जोड दे जाथे। पॉली हाउस म तापमान ल नियंत्रित करइया उपकरण लगा लेहे ले बहुत ऊँचा तापमान वाले क्षेत्र मन म घलोक प्रतिकूल मौसम म साग-भाजी उगाए जा सकत हे। ग्रीन हाउस के ए…

Read More

खस ( Vetiver) के खेती हे फायदेमंद

इफको किसान, किसान मन के रूझान आजकल वेटिवर (खस) के खेती कोति होवत हे। नदी तीर के जमीन अऊ असिंचित क्षेत्र म खस के खेती करे जा सकत हे। एखर खेती बर सीमैप संस्थान कोति ले परियोजना के अंर्तगत किसान मन ल छूट देहे के संगे-संग समय-समय म प्रशिक्षण घलोक देहे जाथे। खस के उपज लगभग 15 ले 25 कुंटल प्रति हैक्टेयर होथे, एखर से लगभग 18-25 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर तेल मिल सकथे। खस के जर मन ले कास्मेटिक, साबुन, सुगंधित तेल, इत्र आदि बनाये जाथे अउ सरबत आदि शीतल…

Read More

सांप के खेती करके लाखों कमावत हे इहां के मनखे, हर घर म मिल जहि डोमी अऊ अजगर

अनाज, फल अऊ साग-भाजी के खेती के बारे म त आप मन बहुत सुने होहू, फेर आज हम आप मन ल बतावत हवन सांप के खेती के बारे म। हव जी, सुने म थोकन अजीब भले लागत होही फेर ये सही बात ये। हम बता देवन के, चीन के जिसिकियाओ नाम के गांव के सैकडों मनखे मन सांप के खेती करके लाखों रुपिया कमावत हें। जानकारी के मुताबिक जिसिकियाओ नाम के ए गांव म 30 लाख ले जादा जहरीला सांप पाले जाथे। इहां के मनखे सिरिफ सांप मन ल भर…

Read More

हरदी (हल्दी) ल मिलीस जीआई प्रमाणन

इफको किसान, ओडिशा के कंधमाल के हरदी (हल्दी) ल भौगौलिक पहिचान (जीआई प्रमाणन) मिले हे। जीआई पहिचान मिले ले भविष्य म ए हरदी (हल्दी) के वैश्विक पहिचान घलोक बाढही। देश के आन क्षेत्र मन के उत्पादित हरदी (हल्दी) के मुकाबला म कंधमाल के हरदी (हल्दी) म उत्तम गुन होए के संगें-संग एकर रंग सोन जइसे सुरूख होथे। ए हरदी (हल्दी) के औषधीय उपयोग करे म एकर कोनो उल्‍टा प्रभाव नइ परय। एखर उत्पादन म कोनो कीटनाशक के परयोग घलव नइ करे ल परय।

Read More

खेत म नमी कम होये म अपने आप होये लगथे फसल मन के सिंचाई

रायपुर, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक मन कोति ले मृदा (माटी) नमी उपर आधारित स्मार्ट सेंसर सहित अपन अपन ड्रिप (टपक) सिंचाई प्रणाली विकसित करे गए हे। ए प्रणाली के तहत कम लागत वाले मृदा नमी अधारित सेंसर तकनीक विकसित करे गए हे जेखर से माटी के नमी जतका होना चाही ओतका बने रहिथे अऊ फल मन ल जादा ले जादा मृदा नमी के लाभ मिलथे। ए ड्रिप सिंचाई पद्धति म माटी म नमी के स्तर कम होए ले सिंचाई अपने आप चालू हो जाथे जेखर से फसल मन…

Read More