बारी विकास योजना बनिस बोहित बर बढ़वार योजना

कवर्धा, ग्राम सुराजी योजना के बाऱी विकास ह कमइया बोहित वैष्णव बर अपन आय ल दुगुना करके उपराहा आय कमाय के साधन बनगे हावय। बारी विकास के काम के अंतर्गत कवर्धा विकासखण्ड के ग्राम मथानीकला के रहया बोहित वैष्णव अउ ओइसनेहे किसान मन ह साग भाजी उगाके सरकारी योजना के लाभ लेके अपन आय के साधन बना लेहे। उन मन अपन बारी म रमकेलिया, करेला, कोचइर्, बरबट्टी ,कुंदरू ,कोंहड़ा, चुटचुटिया जइसन गजब अकन साग उगाके बजार म बेचके मुनाफा कमावत हे। इन किसान मन ल मनरेगा योजना के अंतर्गत पारिश्रमिक घलो दे गे हे। उल्लेखनीय हे कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के सुराजी ग्राम योजना ह सरकार के महत्वकांक्षी कार्यक्रम हरे। ये योजना के तहत गँवई परिवेश म आधारित रोजगार अउ अजीविकास ल बढ़ोए बर नरवा, गरूवा, घुरवा अउ बाऱी के विकास करे जावत हे। कोनो भी शासकीय योजना के उदेश्य समाज के आखरी छोर के मनखे तक उन्कर आर्थिक बेहतरी बर सुविधा अउ साधन उपलब्ध कराना हे, ताकि उन मन आत्मनिर्भर हो सकै। छत्तीसगढ़ शासन डाहर ले इही सबो बात मन ल को ध्यान मं रखत हुए सुराजी योजना के तहत नरवा, गरूवा, घुरवा अउ बारी कार्यक्रम ले लोगन मन ल लाभ देहे के योजना बनाए गे हवय।




बोहित वैष्णव पिता थुनुक छोटे किसान के संगे -संग महात्मांगांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के पंजीकृत श्रमिक घलो हरे। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना ले बारी के साफ-सफई, भूइयाँ सतलीकरण अउ बाऱी ल घेरा करे बर 13 हजार दो सौ रूपिया अउ बारी कार्यक्रम के तहत अबड़ अकन साग भाजी मन बीजा बर तीन हजार रूपिया उद्यानिकी विभाग डाहर ले अलग से दिए गे रिहिसे । कड़ी मेहनत के बाद ओकर बारी ले सब्जी के उत्पादन घलो शुरू हो गे हवय।



चटकाराः-
बिसाहीन:- तोला लाज सरम आथे कि नही, थोरिक कमई का बाढ़गे रोजेच पीके आए ल धर लेस।
बुधारू:- उहूँ पगली हस वो तहूँ ह, रोज दवई गोटी डारबे तभे तो साग भाजी बने हरियर रहिथे।
बिसाहीन:- त बारी संग अपनो दवई बूटी ले लेहौं का ?
बुधारू:- लोहा ल लोहा काटथे, ओइसनेहे जाहर ह जाहर ल काटथे।

Related posts