एक गेंगरूवा किसान के बचा देथे 7000 रूपिया

गेंगरूवा (केंचुवा) मिट्टी ल नरम बनाथे, पोला बनाथे, उपजाऊ बनाथे। गेंगरूवा (केंचुवा) के काम हे माटी के ऊपर ले तरी कोती जाना अउ तरी ले ऊपर कोती आना। गेंगरूवा ह एक दिन म तीन चार चक्कर ऊपर ले नीचे अउ नीचे ले ऊपर लगा देथे। जब केंचुवा तरी जाथे त एक छेदा बनात तरी जाथे अऊ जब ऊपर आथे त फेर एक छेदा बनात ऊपर आथे। येकर से माटी म छोटे-छोटे छेदा बनथे जेकर से माटी ह पानी के एक-एक बूंद ल अपन म समो लेथे। संगें-संग ये केंचुआ ह…

Read More

करेला बेंच के पोठावत हें किसान : करेला के खेती के साबर मंत्र

जमीन अउ जलवायु– करेला एक पौष्टिक साग (सब्जी) ये जेकर खेती भारत भर म साल भर करे जाथे। करेला के फल ह लोहा (आयरन), चूना (कैल्सियम) अउ विटामिन ले भरपूर होथे अऊ ये मां औषधीय गुण घलोक पाए जाथे। करेला के कच्चा फल के उपयोग कई प्रकार के साग (सब्जी) बनाए म अऊ अचार बनाए बर करे जाथे। करेला उपठष्ण कटिबंधी साग (सब्जी) ये अऊ एखर खेती बर गरम अऊ सुक्‍खा जलवायु के जरूरत होथे। थोकन ठंडक अऊ जादा वर्षा वाले क्षेत्र मन म घलोक एखर खेती करे जा सकत…

Read More

साग-भाजी बर हाईटेक तकनीक पॉली ग्रीन हाउस

पॉली ग्रीन हाउस या प्लास्टिक ग्रीन हाउस पॉलीथिन शीट के उपयोग करके बनाए जाथे ए सेती एला पॉली हाउस घलोक कहिथें। पॉली हाउस के फ्रेम जंगरहित लोहा के पाइप ले तैयार करे जाथे, जऊन ल 600 गैज के पॉलीथिन ले ढांक दे जाथे। एखर भीतर बिजली ले चलइया कूलर अउ हीटर लगाके तापमान नियंत्रक उपकरण ले जोड दे जाथे। पॉली हाउस म तापमान ल नियंत्रित करइया उपकरण लगा लेहे ले बहुत ऊँचा तापमान वाले क्षेत्र मन म घलोक प्रतिकूल मौसम म साग-भाजी उगाए जा सकत हे। ग्रीन हाउस के ए…

Read More

अस्पी फार्मर ऑफ द ईयर अवॉर्ड (बागवानी श्रेणी) : भाबेन्द्र मोहन बोरगोहेन

अमेरिकन स्प्रिंग एंड प्रेसिंग वर्कस प्रा.लि. (अस्पी) पौध संरक्षण यंत्र के क्षेत्र म एक जाने पहिचाने प्रतिष्ठित नाम हे। अस्पी के पितृ पुरुष स्व. श्री लल्लूभाई पटेल अऊ अस्पी एक दूसर के पर्याय ये। सरल, सहज सादगी ले भरपूर स्व. श्री लल्लूभाई के जीवन के केवल एके लक्ष्य रहिस- खेती के विकास अऊ किसान मन के समृद्धि। उमन अपन सक्रिय जीवन म बहुत अकन गांव मन ल गोद लेके विकास के राह दिखईस, कई शिक्षण संस्था मन ल सरलग सहायता अऊ सहयोग दीस, कृषि अनुसंधान अउ शिक्षण के क्षेत्र म…

Read More

सदाबहार के खेती हे लाभकारी, डारा-पाना अउ बीजा जम्‍मो बेंचाथे

सदाबहार (सदासोहागी) के खेती ले घलव अच्‍छा कमई करे जा सकथे। येकर खेती के बारे म हम आप ल जरूरी जानकारी इहां देवत हवन। सदाबहार के खेती बर हल्का दोमट ले रेतीली जमीन जेमां पानी के निकास अच्छा होवय बने होथे। छत्‍तीसगढ़ के वातावरन एकर बर बने हे। येकर व्‍यावसायिक तौर म खेती करे बर खेत तियार करत बेरा 50-60 क्विंटल गोबर खाद अउ 100 किलोग्राम सुपरफास्फेट अउ 50 किलो नीम के खली मिट्टी म मिलाना चाही। येकर पौधा ल नर्समी म अप्रैल-मई म तियार करना चाही। खेत म लगाए…

Read More

का साग खाए गोई .. ‘गुच्छी’ जेकर हे सोन के भाव

मंहगी के ये जमाना म सबो साग-भाजी अब बड़ मंहगी हो गए हे। बजार म अब कोनो साग पचास रूपिया किलो ले कम नइ हे। अभी बजार म सबले मंहगी बोहार भाजी आवत हे जेन ह अंदाजी डेढ़ सौ रूपिया किलो चलत हे। येती अभी के समें म बोहार भाजी ले मंहगी साग-भाजी नइ ये। हम अतकेच भर ल सुने रहेन फेर कोनो साग सोन के बरोबर महंगी होही ये बात हम सोंचे घलव नइ रहेन। सियान मन मेर पूछे अउ इंटरनेट म खोजे ले पता चलिस कि ये सिरतोन…

Read More

खस ( Vetiver) के खेती हे फायदेमंद

इफको किसान, किसान मन के रूझान आजकल वेटिवर (खस) के खेती कोति होवत हे। नदी तीर के जमीन अऊ असिंचित क्षेत्र म खस के खेती करे जा सकत हे। एखर खेती बर सीमैप संस्थान कोति ले परियोजना के अंर्तगत किसान मन ल छूट देहे के संगे-संग समय-समय म प्रशिक्षण घलोक देहे जाथे। खस के उपज लगभग 15 ले 25 कुंटल प्रति हैक्टेयर होथे, एखर से लगभग 18-25 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर तेल मिल सकथे। खस के जर मन ले कास्मेटिक, साबुन, सुगंधित तेल, इत्र आदि बनाये जाथे अउ सरबत आदि शीतल…

Read More

डेयरी योजना के तहत मिले छूट के लाभ बर किसान मन ल करना होही अगोरा

छत्‍तीसगढ़ म स्वच्छ दूध उत्पादन के नजरिए ले शुरू करे गए राज्य डेयरी उद्यमिता विकास योजना के हितग्राही मन ल फिलहाल छूट के लाभ पाय बर अगोरा करना होही। फिलहाल किसान मन ल बैंक के करजा खुदे चुकाना होही। हितग्राही मन ल करीबन 15 करोड रुपिया के भुगतान करना हे। अकेला रायपुर के हितग्राही मन के करीबन एक करोड रुपये बकाया हे। ए खातिर नवा आवेदन फार्म के वितरण नइ करे जात हे। योजना के लाभ लेने बर विधानसभा चुनाव ले पहिली पशुधन विकास विभाग रायपुर म लगभग 40 आवेदन आए रहिस।…

Read More

बागवानी, पशु पालक अऊ मछली पालक मन ल मिलही किसान क्रेडिट कार्ड के लाभ

इफको किसान, अब बागवानी, पशु पालन अऊ मछली पालन ह घलोक कृषि क्षेत्र के हिस्सा बन गए हे। अब एखर से जुडे मनखे मन ल घलोक किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) अऊ पशुपालन, मछली पालन बर दू लाख रुपिया तक के ऋण सुविधा मिल सकही। किसान क्रेडिट कार्ड बर सिरिफ तीन कागद लेहे जाही। पहिली – जउन मनखे करजा बर आवेदन देवत हे वो किसान होना चाही, बैंक एखर बर किसान के खेत के कागजात देखही, दूसर- किसान के निवास प्रमाण पत्र अऊ तीसर आवेदक किसान के शपथ पत्र, जेखर से…

Read More

रेलवे म 1665 पद बर होवत हे भर्ती

आरआरबी (रेलवे) के मंत्रालय विभाग म 1665 पद बर आवेदन आमंत्रित करे गये हे। ए पद मन के शैक्षणिक योग्यता, पद के मुताबिक अलग-अलग हे। आयु सीमा घलोक पद अनुसार हे, आवेदन करईया के उम्‍मर कम से कम 18 साल होना जरूरी हे। आरक्षित वर्ग मन बर आयु सीमा म छूट सरकार के नियमानुसार होही। बेबसाईट के माध्‍यम ले आवेदन पंजीकरण करे के आखरी तारीक 22 अपरेल 2019 हे। जादा जानकारी बर वेबसाइट https://www.sarkariresult.com म देख सकत हव।

Read More