बाढत गर्मी म गर्भवती दाई अऊ सियान मन के रखव खियाल

गर्मी के मौसम आतेच मनखेच नहीं जीव-जन्तु मन ल घलोक कई प्रकार के समस्या के सामना करना परत हे। फेर गर्भवती महिला मन, सियान मन अऊ छोटे लइका मन के ये बेरा म विशेष ख्याल रखना परथे। काबर कि मौसम के सब्बो उतार-चढाव के दुष्प्रभाव गर्भवती महिला मन, सियान मन अऊ लईका मन उपर जादा परथे। ए खातिर इंकर विशेष ध्यान रखना परथे। महिला रोग विशेषज्ञ अऊ वरिष्ठ चिकित्सक डॉ.आशा तिवारी ह बताइस कि नीबू, शिकंजी अऊ ठंडा पेय पद्धार्थ मन के जादा ले जादा उपयोग करना चाही। उमन कहिन कि गर्भवती महिला मन, सियान मन अऊ लइका मन भर बर नहीं, भलुक युवा मन अऊ अधेड मन ल घलोक गर्मी ले बचना चाही। उमन बताइस कि सब्बो मनखे सूरज के तपिश ले बचे के भरसक उदीम करना चाही। प्रयास करव कि दोपहर म बाहिर झन निकले ल परय। एकदम जरूरी होए ले निकलना होए त गमछा बांध के मुह ढ़ाक के निकलना चाही। एकरे संग गोंदली (प्याज) ल अपन तीर रखना चाही, एखर से लू नइ लगय।






Related posts